एक "शोले" राम गोपाल वर्मा की भी थी।एक "शोले" राम गोपाल वर्मा की भी थी।

बिल्कुल सही कह रहे हैं…एक “शोले” राम गोपाल वर्मा की भी थी। बहुत ही मन से इस फिल्म को राम गोपाल वर्मा ने बनाया था। 31 अगस्त 2007 को यह फिल्म रिलीज की गई थी। इस फिल्म को बनाने का मकसद साल 1975 की असली फिल्म “शोले” को ट्रिब्यूट देने का था।

साथ ही फिल्म के निर्देशक और निर्माता राम गोपाल वर्मा पुरानी फिल्म की कहानी (1975) को साल 2007 के हिसाब से दर्शकों के सामने पेश करना चाहते थे। कहानी के पात्र के हिसाब से कास्टिंग भी कर ली गई और शूटिंग भी पूरी कर ली गई। फिल्म का पोस्ट प्रोडक्शन भी हो गया, और राम गोपाल की शोले फिल्म का प्रमोशन भी अच्छा खासा हो गया।

राम गोपाल वर्मा साल 1975 की फिल्म “शोले” के दिवाने ठहरे। पूरी की पूरी कहानी को मार्डन तरीके से पेश कर फिल्म का नाम रखा “राम गोपाल वर्मा की आग”

“राम गोपाल वर्मा की आग” की कमाई

इस फिल्म में अजय देवगन ने वीरु, अमिताभ बच्चन ने गब्बर सिंह, प्रशांत राज ने जय, बोमन ईरानी ने अंग्रेजी जेलर, राजपाल यादव ने सूरमा भोपाली, मोहन लाल ने ठाकुर, सुशांत सिंह ने सांभा आदि नाम से मिलते जुलते रोल किये थे। बिल्कुल बैसे ही पात्रों के नाम 1975 की शोले से नहीं उठाये गये थे पर उनके जैसे कार्य जरुर “राम गोपाल वर्मा की आग” में दिखे थे।

31 अगस्त 2007 को 875 स्क्रीन पर इस फिल्म को रिलीज कर दिया गया। “राम गोपाल वर्मा की आग” का बजट 21 करोड़ रुपये था। फिल्म ने पहले दिन 1 करोड़ 27 लाख रुपये की कमाई की। वहीं पहले वीकएंड पर 4 करोड़ 96 लाख रुपये की कमाई की। पहले हफ्ते की कुल कमाई 6 करोड़ 98 लाख रुपये हो चुकी थी। अभी भी फिल्म अपने भारी भरकम बजट के आधे को भी कवर नहीं कर पाई थी।

“राम गोपाल वर्मा की आग” ने सिनेमाघर से विदा लेने तक भारत में 10 करोड़ 30 लाख रुपये की कमाई की थी तो वहीं भारत के बाहर यह फिल्म 2 करोड़ 43 लाख रुपये की ही कमाई कर सकी। इस तरह इस फिल्म की कुल कमाई 12 करोड़ 73 लाख रुपये ही हो सकी। यह फिल्म अपने बजट को भी कवर ना कर सकी और 9 करोड़ का घाटा झेलकर डिजास्टर में शामिल हो गई।

अमिताभ बच्चन को उनका पसंदीदा रोल मिला

अमिताभ बच्चन ने अपने कई इंटरव्यू में इस बात का जिक्र किया था कि वह रमेश सिप्पी की फिल्म “शोले” में गब्बर सिंह का रोल करना चाहते थे पर उनको जय का रोल मिला और गब्बर सिंह का रोल अमजद खान को दिया गया। साल 1975 में आई यह फिल्म ब्लॉकबस्टर साबित हुई। राम गोपाल वर्मा भी इस फिल्म का रिमेक बनाने के लिये लगे हुये थे। राम गोपाल वर्मा जब अमिताभ के पास आये और फिल्म की कहानी बताई तो अमिताभ ने गब्बर सिंह वाले रोल को मांग लिया और उनका यह रोल दे दिया गया।

इस फिल्म में अमिताभ के किरदार का नाम बब्बन सिंह था। राम गोपाल वर्मा तब अपनी फिल्मों में कई तरह के प्रयोग करते रहते थे, कभी नये नये तरह के कैमरा ऐंगल, कभी कहानी पर प्रयोग और इसी प्रयोग का नतीजा था “राम गोपाल वर्मा की आग”

Read This Interesting News Story

By Pradeep

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *